Glani Aur Gaurav


Glani Aur Gaurav

Glani Aur Gaurav(paperback)

Author : Jainind Prashar
Publisher : Uttkarsh Prakashan

Length : 96Page
Language : Hindi

List Price: Rs. 150

Discount Price Rs. 135

Selling Price
(Free delivery)



‘ग्लानि और गौरव’ काव्य संग्रह में जयहिन्द जी ने विभिन्न मुद्दों को उठाया है चाहे वो भारत देश में अपनी ही राष्ट्रीय भाषा हिंदी का तिरस्कार हो चाहे पाकिस्तान द्वारा आतंक को पनाह देना, देश में बढ़ती बीमारी, लोकतंत्र के नाम पर चोला ओढ़ना आदि, इन विषयों पर गहरी चिंता भी जताई है। दूसरी तरफ जयहिन्द जी द्वारा इस काव्य संग्रह में ऐसी विभूतियों को भी मान दिया गया है जिनके कारण देश पूरे विश्व पटल पर सम्मानित हुआ है जिसमें भारतरत्न कृष्ण राम जी देश की चाँद पर पहुँचे, देश में सागर की लहरों पर बहती अरिहंट की नौसेना की उपलब्धि इन सभी विषयों को जयहिन्द जी ने अपनी लेखनी के माध्यम से बड़े ही सजीव रूप में पाठकों के सामने प्रस्तुत किया है। उनका अनुभव, उनके विचार, उनकी देश के प्रति चिंता व देश प्रेम साफ-साफ इस संग्रह में देखने को मिलता है।

Specifications of Glani Aur Gaurav (Paperback)

BOOK DETAILS

PublisherUttkarsh Prakashan
ISBN-10978-93-88155-58-8
Number of Pages96
Publication Year2018
LanguageHindi
ISBN-13978-93-88155-58-8
Bindingpaperback

© Copyrights 2019. All Rights Reserved Uttkarsh Prakashan

Designed By: Uttkarsh Prakashan