Preet Purani Geet Naye


Preet Purani Geet Naye

Preet Purani Geet Naye(Paperback)

Author : Surekha Kadiyan "srajna"
Publisher : Uttkarsh Prakashan

Length : 80Page
Language : Hindi

List Price: Rs. 100

Discount Price Rs. 75

Selling Price
(Free delivery)





मन में उपजी भावनाएं जब कलम के माध्यम से कागज पर उकेरी जाती हैं, तब काव्य का सृजन होता है । सच यह भी है कि संसार में प्रत्येक प्राणी में अनुभूति की क्षमता है, किन्तु अभिव्यक्ति की क्षमता किसी विरले में ही होती है । काव्य को विविध सीमाओं में भले ही कितना भी बांधने का प्रयास किया जाए, किन्तु मन के उद्गार किसी भी काव्यगत् विधा के मोहताज नहीं हैं । एक युवा स्वर जब सृजन करता है तब काव्य की शिल्पगत विशिष्टताओं की वह परिभाषा नहीं जनता। मन में उपजी भावनाओं की स्पष्ट अभिव्यक्ति ही उसके रचना संसार को प्रस्तुत करता है । आगे समीक्षकों की दृष्टि होती है कि वे उसे किस रूप में स्वीकारें । रचनाकार सुरेखा कादियान ‘सृजना’ की काव्य कृति ‘प्रीत पुरानी गीत नए’ भी इससे इतर नहीं है । रचनाकार ने प्रीत की उन अनुभूतियों को अपनी कृति में उकेरा है जो जनम जनम से भावुक हृदय में अपना अस्तित्व स्थापित किये रहती है । यूँ तो प्रीत कभी पुरानी नहीं होती और गीत भी नए नहीं होते, प्रीत अनवरत गतिशीलता का पर्याय है और गीत की पृष्ठभूमि आदिकाल में रचित ग्रंथों में पूर्व से ही अभिव्यक्त है, केवल शब्द और प्रस्तुति के ढंग बदलते हैं । रचनाकार सृजना ने प्रीत की विभिन्न स्थितियों को अपने भावों में व्यक्त किया हैं, प्रीत के अनेक आयाम उनकी भिन्न-भिन्न ग़ज़लों में कुछ यूँ अभिव्यक्त हुए हैं - कुछ इस तरह से बदले हैं चन्द मुलाकातों में हम, इक सवाल बनकर रह गए हैं तेरे जवाबों में हम । मुस्कुराने आए हैं अब गैरों की बस्ती में, अपनों ने ही दिए हैं हमें जख़्म गहरे सभी । संभल-संभल पग धरती हूँ, सम्भल-सम्भल बतियाती हूँ, जाने कौन घड़ी तू बरबस, दिख जाए मेरी बातों में । यही नहीं उनकी मुक्तछंद रचनाएं इस काव्यकृति में उनके मौलिक चिंतन का भरपूर आभास कराती हैं, जो रचनाकार में एक असीम सम्भावना का दर्शन कराती हैं कि भविष्य में अलग-अलग विधाओं में रचनाकार की रचनाएं उनकी साहित्यिक उर्वरा का बोध कराने में समर्थ होंगी । - डाॅ. सुधाकर आशावादी वरिष्ठ साहित्यकार एवं समीक्षक बदायुं, (उ.प्र.) फोनः 08445012726

Specifications of Preet Purani Geet Naye (Paperback)

BOOK DETAILS

PublisherUttkarsh Prakashan
ISBN-109384236985
Number of Pages80
Publication Year2015
LanguageHindi
ISBN-139789384236984
BindingPaperback

© Copyrights 2017. All Rights Reserved Uttkarsh Prakashan

Designed and Developed By: ScripTech Solutions